मंगलवार, 4 जून 2013

तुम मेरे हो

तुम मेरी अशिकी हो तुम प्यार भी हो मेरा,
                                                        तुम चैन हो सुकुं हो तुम हो करार मेरा।
तुम मेरी रह गुज़र हो तुम मेरी मंज़िलें हो, 
                                                     तुम हो निगाहें मेरी तुम इंतज़ार  मेरा।

तुम  आंख मे हो कजरा तुम गेसू की महक हो, 
                                                   तुम झांझरों की छ्न छन तुम चूड़ी की खनक हो।
तुम मेरे दिल का मौसम सांसो की रवानी भी,
                                                   तुम हो हंसी मे  शामिल तुम आंख मे पानी भी।

जो मुझमे मचलती है तुम वो लहर हो मेरी,
                                                 तुम शब मे भी ढलते हो तुम ही सहर हो मेरी।
तुमको ही ढूंढती सी राहों मे भटकती हूँ ,
                                                 तुम हो तलाश भी और तुम रह्गुज़र हो मेरी।

क्या मांगू  तुमसे तोहफा तुम क्या निसार कर दो,
                                               तुम ज़िंदगी मे मेरी बस प्यार प्यार भर दो।
या मांग लूं बस इतना बाहों को हार कर दो,
                                               सीने से लगा लो और मेरा सिंगार कर दो।